Skip to main content
#
MOTHER INDIA CARE
about us
awards
fundraiser
our supporters
donation updates
charity work
donor login
current case
gallery
contact
site map
our facebook page
Public Notice

Please do not pay any money to any unauthorized person or our authorized person for getting a job at Mother India Care, we can not be held responsible for such dealing.

Fortune & Legacy Care

Vatan Ka Heera - Dare


Plant A 10K Magic Tree
Of Blessings & Money
The Best seed to
Thrive in 2022

Join National Movement to #EndRoadCarnage


Introspect & become
A Genius Road User &
Join Introspectors Group

Amal India Movement

Going Green


We Support United Nations
Paris Agreement

MIC Grandeur

Kaun Banega Supergenius

Runners Club India

Rally 2 Rule


All India & Wold rally 

 

Dr. APJ Abdul Kalam.....

Disaster Relief Center

Beat Drug Menance

Road Safety Academy

 Amal India Movement - अमल इंडिया आंदोलन - Implementing What is right - जो सही है उस पर अमल करना - Save Yourself From Yourself - खुद को खुद से बचाओ 

Every day around 500 families are receiving dead bodies of their loved ones due to road accident deaths in India and are also called as accidental suicide. The biggest culprit is hidden inside us and that is our blind mind and we believe our mind blindly.

 

Our mind is pulling to enjoy the taste of our senses and dragging us in the same pit which is harmful to us and we are getting caught in the pattern of self-deception without our knowledge. You can see how a celebration turns into mourning in the video below and that this the example of the blind mind which over powered their intelligence and they started the celebration on the road which should be done at the right place.

 

Majority of the road accidents are occurring due to human error which can be corrected. People know what is right but they don’t implement these principles in their life. We love our old habits so much that if someone advises us to change them, we appreciate but the mind resists and consequently the road accidents are increasing.

 

Negligence, ignorance, indiscipline, convenience, disobedience and distraction are the main tools of our mind to deceive & destroy us and surprisingly the master of self-destruction is hidden within us.

 

The United Nations & many stakeholders are organizing public awareness events to reduce daily accidental suicides which is deadlier than pandemic. Even the increase in road traffic fines for violation of road traffic rules couldn’t  not bring down the road accident deaths because the root cause is the old mindset of the public which cannot be changed by mere awareness, it requires special mechanism. When used carefully, science is a boon; when used carelessly, science is a curse.

 

Roads are deadlier than pandemic and are killing precious lives every day. Road users are moving on roads with their old mindset which requires to be changed. Even government of India has given  call to NGOs to work on the old mindset to change it so as to reduce the daily road accident deaths. No words seeds were sown in the mind garden of road users while issuing driving licence or while started using roads. In the absence of seeds weeds will occupy the garden of your mind. After obtaining the license people misinterpretted the situation as total freedom in an out of control world. Whereas  as far as your self control goes as far goes your freedom. If you go out of control you will be controlled by someone. People started using public roads as an public amusement parks and consequently the road accidents are increasing.

 

Mother India Care has designed a special mechanism to change the old mindset of road users thru mind gardening using GIBMA Kriya that acts as a word seeder and which is scientifically proven by the Global Wisdom Research. Any plant can be sown and grown on the land and similarly, any goal can be sown and grown in the garden of our mind as well. What we plant in our mind garden we become that and this has been proven by science.

 

Moon mission of chandryan is the invention of scientists and boon mission of GIBMA Kriya is also the invention of scientists. Mission moon via Chandrayaan is the gift of science and the mission boon via Gibma Kriya is also the gift of science. Whole world is appreciating and we Indians are feeling proud on the success of Chandrayaan. Same way and soon the whole world will be appreciating and we Indians will be feeling proud on the success of gibma kriya

 

 

Gibma Kriya is a gift of science and a boom for road users. The right words seeds which are prepared on the principle of psychology are sown in the mind garden of every road users. Your words are your seeds. We can change our world by changing our words. We speak what we are and we become what we speak. We get what we sow and we become what we serve. The seeds you sow are the fruits you grow. Words are seeds and seeds produce a harvest. Thoughts are outputs, influences (see, speak, read, write & listen) are inputs. As we perceive so we receive. As we think so we feel. With GIBMA Kriya you can reinvent, renovate & rejuvenate yourself.

 

No matter if we don't plant any seeds in the mind garden, the never-ending negative thoughts are sowing weeds in our minds.. Our cunning mind is subtly manipulating us into negativity, attracting negativity, nurturing negativity and governing us through negativity, we are being guided by self-deception without even realizing it.

 

Taking action to prevent a disaster is called humans & while waiting for the disaster to occur & then taking action is called inhuman. Advice after injury is medicine after death because it is least heeded when most needed. Amal India Movement is going on to change your own mindset and if still you do not change your  mindset then remember that time changes the mindset of all legends, it is better to change yourself, if time changes it, then it will be very painful. Around 500 families are going through this pain everyday and we don't want any road user to suffer from this pain.

 

Mother India Care has started Amal India Movement to involve every road users by ensuring no one is left behind for this GIBMA Kriya and transforming public awareness into preparedness. Road users are coming forward for this GIBMA kriya some at the cost of advice and some at the cost of precious lives.  History is the witness that whenever there was a movement, there was a big change in the society.

 

 Join the Amal India Movement, to show solidarity, accept the national dare of Mother India Care to save yourself from yourself thru mind gardening using GIBMA Kriya. We are slaves to our own fiefdom, where we should have our own kingdom. Do the GIBMA Kriya and be the master of your own fiefdom. And be back to your home safely every day. Because your family needs you, the country needs you.  

 

It is the duty of every Indian to Make the movement successful by giving your personal support to maintain the greatness of my country Bharat Mahan. Together let us achieve the 360 degree reversal in road accident death in India by 2030.

भारत में प्रतिदिन लगभग 500 परिवारों को सड़क दुर्घटना में होने वाली मौतों के कारण उनके प्रियजनों के शव मिल रहे हैं और इसे आकस्मिक आत्महत्या भी कहा जाता है। सबसे बड़ा अपराधी हमारे अंदर छिपा है और वह है हमारा अंधा मन  और हम अपने मन पर आंख मूंदकर विश्वास कर लेते हैं।

हमारा मन हमारी इंद्रियों के स्वाद का आनंद लेने के लिए खींच रहा है और हमें उसी गड्ढे में खींच रहा है जो हमारे लिए हानिकारक है और हम अपने ज्ञान के बिना आत्म-धोखे के पैटर्न में फंस रहे हैं। आप नीचे दिए गए वीडियो में देख सकते हैं कि कैसे एक जश्न मातम में बदल जाता है और यह उस अंधे दिमाग का उदाहरण है जिसने उनकी बुद्धि पर काबू पा लिया और उन्होंने सड़क पर जश्न मनाना शुरू कर दिया जो कि सही जगह पर किया जाना चाहिए।

अधिकांश सड़क दुर्घटनाएं मानवीय भूल के कारण हो रही हैं, जिन्हें सुधारा जा सकता है। लोग जानते हैं कि क्या सही है लेकिन वे इन सिद्धांतों को अपने जीवन में लागू नहीं करते हैं। हम अपनी पुरानी आदतों से इतना प्यार करते हैं कि अगर कोई हमें उन्हें बदलने की सलाह देता है तो हम सराहना करते हैं लेकिन मन विरोध करता है और परिणामस्वरूप सड़क दुर्घटनाएँ बढ़ रही हैं।

लापरवाही, अज्ञानता, अनुशासनहीनता, सुविधा, अवज्ञा और भटकाव हमें धोखा देने और नष्ट करने के हमारे  मन  के मुख्य उपकरण हैं और आश्चर्य की बात यह है कि आत्म-विनाश का स्वामी हमारे भीतर छिपा हुआ है।

संयुक्त राष्ट्र और कई हितधारक दैनिक आकस्मिक आत्महत्याओं को कम करने के लिए जन जागरूकता कार्यक्रम आयोजित कर रहे हैं जो महामारी से भी अधिक घातक है। यहां तक ​​कि सड़क यातायात नियमों के उल्लंघन पर सड़क यातायात जुर्माने में वृद्धि भी सड़क दुर्घटना में होने वाली मौतों में कमी नहीं ला सकी क्योंकि मूल कारण जनता की पुरानी मानसिकता है जिसे केवल जागरूकता से नहीं बदला जा सकता है, इसके लिए विशेष तंत्र की आवश्यकता है।

सड़कें महामारी से भी अधिक घातक हैं और हर दिन कीमती जानें ले रही हैं। सड़क उपयोगकर्ता अपनी पुरानी मानसिकता के साथ सड़कों पर चल रहे हैं, जिसे बदलने की जरूरत है। यहां तक ​​कि भारत सरकार ने भी गैर सरकारी संगठनों से पुरानी मानसिकता को बदलने के लिए काम करने का आह्वान किया है ताकि दैनिक सड़क दुर्घटना में होने वाली मौतों को कम किया जा सके। ड्राइविंग लाइसेंस जारी करते समय या सड़क का उपयोग शुरू करते समय सड़क उपयोगकर्ताओं के दिमाग में शब्दों के बीज नहीं बोए जाते थे। बीज के अभाव में खरपतवार आपके मन के बगीचे पर कब्ज़ा कर लेंगे और परिणामस्वरूप सड़क दुर्घटनाएँ बढ़ रही हैं।

मदर इंडिया केयर ने सड़क उपयोगकर्ताओं की पुरानी मानसिकता को बदलने के लिए गिब्मा क्रिया का उपयोग करके दिमागी बागवानी के लिए एक विशेष तंत्र तैयार किया है जो ग्लोबल विजडम रिसर्च द्वारा वैज्ञानिक रूप से सिद्ध है। सड़क उपयोगकर्ता इस  गिब्मा क्रिया के लिए आगे रहे हैं, कुछ सलाह की कीमत पर और कुछ कीमती जिंदगियों की कीमत पर। चंद्रयान के माध्यम से मिशन मून विज्ञान की देन है और गिब्मा क्रिया के माध्यम से मिशन वरदान भी विज्ञान की देन है। चंद्रयान की सफलता पर पूरी दुनिया सराहना कर रही है और हम भारतवासी गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं।  उसी तरह और जल्द ही पूरी दुनिया इसकी सराहना करेगी और हम भारतीय  गिब्मा क्रिया की सफलता पर गर्व महसूस करेंगे।

गिब्मा क्रिया विज्ञान  की देन है और सड़क उपयोगकर्ताओं के लिए एक वरदान है। भूमि पर जिस प्रकार कोई भी पौधा बोया और उगाया जा सकता है और उसी प्रकार हमारे मन के बगीचे में भी कोई भी लक्ष्य बोया और उगाया जा सकता है। हम अपने मन के बगीचे में जो रोपते हैं, हम वही बन जाते हैं और यह बात विज्ञान द्वारा सिद्ध हो चुकी है।

मनोविज्ञान के सिद्धांत पर तैयार किये गए सही शब्द के बीज हर सड़क उपयोगकर्ता के मन के बगीचे में बोए जाते हैं। आपके शब्द आपके बीज हैं. हम अपने शब्दों को बदलकर अपनी दुनिया बदल सकते हैं। हम जो हैं वही बोलते हैं और जो बोलते हैं वही बन जाते हैं। हम जो बोते हैं वह हमें मिलता है और हम जिसकी सेवा करते हैं वह बन जाते हैं। जो बीज आप बोते हैं वही फल आप उगाते हैं। शब्द बीज हैं और बीज से फसल पैदा होती है। विचार आउटपुट हैं, प्रभाव (देखना, बोलना, पढ़ना, लिखना और सुनना) इनपुट हैं। जैसा हम अनुभव करते हैं वैसा ही हमें प्राप्त होता है। हम जैसा सोचते हैं वैसा ही महसूस करते हैं। गिब्मा क्रिया से आप स्वयं का पुनरुद्धार, नवीनीकरण और कायाकल्प कर सकते हैं।

इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि हम मन के बगीचे में कोई बीज नहीं बोते हैं, कभी खत्म होने वाले नकारात्मक विचार हमारे दिमाग में खरपतवार बो रहे हैं। हमारा चालाक दिमाग सूक्ष्मता से हमें नकारात्मकता में बदल रहा है, नकारात्मकता को आकर्षित कर रहा है, नकारात्मकता का पोषण कर रहा है और नकारात्मकता के माध्यम से हमें नियंत्रित कर रहा है। हम इसका एहसास किए बिना ही आत्म-धोखे से निर्देशित हो रहे हैं।

किसी आपदा को रोकने के लिए कार्रवाई करना मानव कहलाता है और आपदा घटित होने का इंतजार करना और फिर कार्रवाई करना अमानवीय कहलाता है। चोट लगने के बाद दी गई सलाह मृत्यु के बाद की दवा है क्योंकि जब इसकी सबसे अधिक आवश्यकता होती है तब इस पर सबसे कम ध्यान दिया जाता है। खुद की मानसिकता को बदलने का अमल इंडिया आंदोलन चल रहा है और अगर अब भी खुद की  मानसिकता को नहीं बदला तो याद रखना समय बड़ों बड़ों की मानसिकता को बदल देता है, खुद बदल लो तो अच्छा है अगर समय ने बदला तो बहुत दर्द होगा अगर समय बदलेगा तो बहुत दुखदायी होगा। लगभग 500 परिवार प्रतिदिन इस दर्द से गुजर रहे हैं और हम किसी भी सड़क उपयोगकर्ता को इस दर्द से पीड़ित नहीं होने देना चाहते।

मदर इंडिया केयर ने प्रत्येक सड़क उपयोगकर्ता को शामिल करने के लिए अमल इंडिया आंदोलन  शुरू किया है ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि इस  गिब्मा क्रिया  के लिए कोई भी पीछे रह जाए और सार्वजनिक जागरूकता को तैयारियों में बदल दिया जाए। इतिहास गवाह है कि जब-जब आंदोलन हुआ, समाज में बड़ा बदलाव आया।

अमल इंडिया आंदोलन  में शामिल हों, एकजुटता दिखाने के लिए, गिब्मा क्रिया का उपयोग करके माइंड गार्डनिंग के माध्यम से खुद को बचाने के मदर इंडिया केयर के राष्ट्रीय साहस को स्वीकार करें। हम अपनी ही जागीर के गुलाम हैं, जहाँ हमारा अपना राज्य होना चाहिए। गिब्मा क्रिया करें और अपनी जागीर के मालिक बनें। और हर दिन सुरक्षित रूप से अपने घर वापस आएं। क्योंकि आपके परिवार को आपकी ज़रूरत है, देश को आपकी ज़रूरत है।

प्रत्येक भारतीय का कर्तव्य है कि मेरे देश भारत महान की महानता को बनाये रखने के लिए अपना व्यक्तिगत सहयोग देकर आंदोलन को सफल बनायें। आइए हम सब मिलकर 2030 तक भारत में सड़क दुर्घटना से होने वाली मौतों में 360 डिग्री का उलटफेर हासिल करें।

    Contact us

    Mother India Care
    (Public Charitable Trust)

    Email: info@motherindiacare.com
    Office Locations



     


       MATRIX

    our facebook page
    Proud Sponsors

              

     Collaborations with Industry leaders for a National Project to manage National Disaster